Multiple Candlestick Patterns (Part-1) | 4 मल्टीपल केन्डलस्टिक पैटर्न |

मल्टीपल केन्डल पेटर्न(Multiple Candlestick Patterns) के हम दो भाग में समजेंगे लेकिन उस से पहेले आप ने सिंगल केन्डल पेटर्न के बारे में नहीं पढ़ा तो निचे दी गई लिंक छे आप उसे पढ़ सकते हो।

Click Here : Japanese Candlestick (Single Candlestick Patterns)| 21 जापानी कैंडलस्टिक के नाम और जानकारी।

सिंगल कैंडलस्टिक पैटर्न(Single Candlestick Pattern) में एक ट्रेडर को केवल एक कैंडलस्टिक की जरूरत होती है जिसके आधार पर वह अपने लिए ट्रेडिंग के मौके ढूंढ सके, लेकिन मल्टीपल कैंडलस्टिक पैटर्न(Multiple Candlestick Patterns) में ट्रेडर को अपने मौके तलाशने के लिए कभी-कभी दो या तीन कैंडलस्टिक को भी पहचानना पड़ता है।

इसका मतलब यह हुआ कि ट्रेडर को मौके तलाशने के लिए 2 या 3 ट्रेडिंग सेशन यानी दो या तीन दिनों की ट्रेडिंग के पैटर्न(Trading Pattern) को देखना पड़ता है।

इस भाग में हम 4 चार पेटर्न को समजेंगे

  1. Bullish Engulfing Pattern – बुलिश एंगलफिंग पैटर्न
  2. Bearish Engulfing Pattern – बेयरिश एंगलफिंग पैटर्न
  3. Piercing Pattern – पियर्सिंग पैटर्न
  4. Dark Cloud Cover Pattern – डार्क क्लाउड कवर पैटर्न

Engulfing Pattern – एंगलफिंग पैटर्न

एंगलफिंग पैटर्न(Engulfing Pattern) को बनने में कम से कम 2 सेशन लगते हैं। इसमें पहले दिन आप एक छोटा कैंडलस्टिक देखेंगे और दूसरे दिन एक लंबा कैंडलस्टिक पैटर्न देखेंगे।

ऐसा लगता है कि दूसरे दिन के कैंडलस्टिक ने पहले दिन के कैंडलस्टिक को ढका या घेरा हुआ है यानी एंगलफिंग (engulfing) किया हुआ है।

  1. अगर एनगल्फिंग पैटर्न किसी ट्रेंड के नीचे की तरफ बनता है तो इसको बुलिश एंगलफिंग पैटर्न(Bullish Engulfing Pattern) कहते हैं।
  2. अगर एनगल्फिंग पैटर्न किसी ट्रेंड में ऊपर की तरफ बनता है तो इसको बेयरिश एंगलफिंग पैटर्न(Bearish Engulfing Pattern) कहते हैं।

Bullish Engulfing Pattern – बुलिश एंगलफिंग पैटर्न

Bullish Engulfing Candlestick
बुलिश एनगल्फिंग पैटर्न(Bullish Engulfing Pattern) 2 कैंडल वाला पैटर्न है जो कि किसी ट्रेंड के नीचे की तरफ बनता है। जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है यह एक बुलिश यानी तेजी वाला पैटर्न है और इसमें हमे खरीद ने की सलाह दी जाती है।

इससे पहले का ट्रेंड नीचे की तरफ का होना चाहिए।

पहले दिन  का पैटर्न लाल कैंडल वाला होना चाहिए जिससे पता चलता है कि बाजार में मंदी का मूड है।

दूसरे दिन का कैंडल एक नीला कैंडल होना चाहिए जो कि लाल कैंडल को पूरी तरीके से ढंक दे मतलब के खा जाये अपने बोडी में समा दे जो आपने उपर चित्र में देखा।

Psychology Behind Bearish Engulfing Candlestick Pattern

बाजार मंदी में है और कीमतें धीरे-धीरे नीचे जा रही हैं। पैटर्न के पहले दिन बाजार नीचे खुलता है और एक नया लो बनाता है, इससे एक लाल रंग का कैंडल बन जाती है।

पैटर्न के दूसरे दिन स्टॉक पहले दिन के बंद भाव के करीब खुलता है और एक नया लो बनाने की कोशिश करता है। लेकिन इस लो पर खरीद आ जाती है जो कि कीमत को पिछले दिन के ओपन से ऊपर ले जाकर बंद करती है, इसकी वजह से एक नीला कैंडल बन जाता है।

दूसरे दिन  की कीमत में आया बदलाव यह भी बताता है कि बुल्स बाजार में मजबूती के साथ आ गए हैं, उन्होंने कीमत ऊपर ले जाने और मंदी के ट्रेंड को तोड़ने के लिए काफी मेहनत की है और वो कीमत ऊपर ले जाने में सफल भी हुए हैं।

इस वजह से नीला कैंडल लंबा बनता है। तब मार्किट में नयी खरीदी भी बढ़ जाती है और सेलर गभरा कर आपनी पोजीसन स्केवर ऑफ करते है तो मार्किट और उपर जाने लगता है।

तेजी का ये नया माहौल अगले कुछ दिनों की ट्रेडिंग तक जारी रहने की उम्मीद होती है जिसकी वजह से कीमते ऊपर जाने की गुंजाइश दिखती है, ऐसे में, हम खरीदी करके मार्किट से मुनाफा कमा सकते है।

Also Read : What is Technical Analysis | शेयर बाजार में टेक्निकल एनालिसिस क्या होता है ?

Bearish Engulfing Pattern – बेयरिश एंगलफिंग पैटर्न

बेयरिश एनगल्फिंग पैटर्न(Bearish Engulfing Pattern) दो कैंडलस्टिक वाला एक ऐसा पैटर्न है जो किसी ट्रेंड के ऊपर की तरफ बनता है जिसकी वजह से इसे बेयरिश माना जाता है।

इसके पीछे की सोच एकदम वैसी ही होती है जैसी बुलिश एंगलफिंग पैटर्न की होती है अंतर सिर्फ एक होता है बुलिश एंगलफिंग पैटर्न खरीद ने का और इसे सेल करने के मौके के तौर पर देखा जाता है।

Psychology Behind Bullish Engulfing Candlestick Pattern

शुरुआत में बाजार पूरी तरीके से बुल्स के कब्जे में है और वह कीमतों को ऊपर ले जा रहे हैं।

जैसे की उम्मीद से भी बाजार ऊपर जा रहा है और एक नया हाई बनेगा जिससे यह तय हो जाएगा कि बाजार में तेजी की हवा चल रही है दूसरे दिन को बाजार उम्मीद के मुताबिक ही, ऊपर खुलेगा और एक नया हाई बनाने की कोशिश करेगा।

लेकिन इस हाई पर बाजार में बिकवाली आ जाएगी और बिक्री के इस दबाव से कीमतें नीचे आने लगेगी।

अचानक आई बिकवाली से बुल्स का असर कुछ कम हो जाएगा। तेजी करने वाले ट्रेडर थोड़े कमजोर पड़ेंगे बिकवाली यानी बेचने वाले कीमतो को नीचे दबायेंगे और इतना नीचे ले जाएंगे कि स्टॉक अपने पिछले दिन के ओपन से नीचे बंद हो।

इससे बुल्स में थोड़ी सी घबराहट आ जाएगी और अपनी पोजीसन सेल करने लगेगे और मार्किट में और मंदी आने लगेगी  दुसरे दिन को अचानक आई तेज बिकवाली से पता चलता है कि बेयर्स ने बाजार पर से बुल्स का कब्जा तोड़ दिया है और ऐसे में उम्मीद की जा सकती है कि बाजार में अगले कुछ दिनों तक बिकवाली का दबाव बना रहेगा। और हम मार्किट में सेल पोजीसन बनाके मुनाफा कमा सकते।

Also Read : Basic of Technical Analysis | टेकनीकल एनालिसिस की नीव

Piercing Pattern – पियर्सिंग पैटर्न

Piercing Candlestick
पियर्सिंग पैटर्न(Piercing Pattern) एक तेजी की  पेटर्न है जो बुलिश एनगल्फिंग पैटर्न की सामान है और उसक असर भी मार्किट में सामान रहेता है लिकिन उसकी बनावट कुच्छ अलग होती है0। बुलिश एनगल्फिंग पैटर्न में दुसरे दिन  का नीला कैंडल पहेले दिन के लाल कैंडल को पूरी तरह से ढंक लेता है।

जबकि, एक पियर्सिंग पैटर्न में दुसरे दिन  का नीला कैंडल पहेले दिन के लाल कैंडल को सिर्फ आंशिक रूप से ही ढंकता है, हाँ ये ढंकना 50% से अधिक और 100% से कम होना चाहिए।

पियर्सिंग पैटर्न बनने की सायकोलोजी भी बुलिश एंगलफिंग पैटर्न के जैसी है और मार्किट में असर भी एक सामान है पियर्सिंग पैटर्न बनने के बाद कन्फर्मेसन मिलने के बाद हम मार्किट में खरीदी कर के मुनाफा कमा सकते है।

Dark Cloud Cover – डार्क क्लाउड कवर

डार्क क्लाउड कवर(Dark Cloud Cover) एक मंदी की पेटर्न है। जो बेयरिश एंगलफिंग पैटर्न की सामान है उसकी असर भी मार्किट में सामान रहेता है लेकिन उसकी बनावट कुछ अलग होती है।

डार्क क्लाउड कवर का पैटर्न वैसे तो बेयरिश एंगलफिंग पैटर्न के समान है लेकिन एक अंतर है। बेयरिश एंगलफिंग पैटर्न में दुसरे दिन  का लाल कैंडल ने पूरी तरह से पहेले दिन के नीले कैंडल को ढंका हुआ रहेता है।

जबकि डार्क क्लाउड कवर पैटर्न में, दुसरे दिन की लाल कैंडल पहेले दिन के नीले कैंडल के लगभग 50% से ज्यादा और 100% से कम की ही होती है। हमारा सेल करने का सौदा बिल्कुल वैसा ही बनेगा जैसा कि बेयरिश एनगल्फिंग पैटर्न में होता है। डार्क क्लाउड कवर को पियर्सिंग पैटर्न का उल्टा माना जाता है।

डार्क क्लाउड कवर पैटर्न बनने की सायकोलोजी भी बेयरिश एंगलफिंग पैटर्न के जैसी है और मार्किट में असर भी एक सामान है डार्क क्लाउड कवर पैटर्न बनने के बाद कन्फर्मेसन मिलने के बाद हम मार्किट में सेलिंग कर के मुनाफा कमा सकते है।

Also Read : Types of Technical Analysis Charts | टेक्निकल एनालिसिस चार्ट के प्रकार

दोस्तों आपको ये मल्टीप्ल कैंडलस्टिक पैटर्न(Multiple Candlestick Patterns) पोस्ट कैसी लगी आप हमें कमेंट में कह शकते है। और भी कोई सवाल होतो पूछ शकते हो || धन्यवाद ||

Leave a Comment