What is Derivative – डेरिवेटिव क्या है?

डेरीवेटिव क्या है ( What is Derivative ) ? और उसमे कौन कौन सी बाते हमें पता होनी चाहिए। उसे हम यहाँ विस्तार से जानेंगे।  

डेरिवेटिव्स ट्रेडिंग क्या है ? – What is Derivative 

डेरिवेटिव्स ट्रेडिंग(Derivative Trading) एक ऐसा उत्पाद है जिसका मूल्य एक या अधिक मूल बातों को ध्यान में रखकर निर्धारित किया जाता है। 

इन मूल्य निर्धारण कारकों(Determining Factors) को बेस (अंतर्निहित संपत्ति या सूचकांक – Underlying Asset or Index) के रूप में जाना जाता है।  यह एक अनुबंध(Contract) के आधार पर कारोबार किया जाता है। 

इस अनुबंध के तहत आने वाली परिसंपत्तियों में इक्विटी(Equity), विदेशी मुद्रा(Foreign Currency), मोडिटी(Commodity) या कोई अन्य संपत्ति शामिल है। 

कोए डेरिवेटिव्स कॉन्ट्रैक्ट्स(Derivatives Contracts) के एक से अधिक संस्करण हैं।  दूसरे शब्दों में, सौदेबाजी(Negotiation) के अलग-अलग साधन हैं। 

इन विभिन्न माध्यमों में से सबसे लोकप्रिय में आगे अनुबंध(Contract), वायदा अनुबंध(Forward Contract) और विकल्प अनुबंध(Option Contract) शामिल हैं। 

श्रमिकों की ये तीन श्रेणियां मुख्य रूप से हेजर्स(Hedgers – भविष्य के नुकसान के लिए प्रतिभूतियां(Securities)), सेकुलर (Gambler) और मध्यस्थ(Mediator) हैं।

शेयर मार्किट क्या है | What is Share Market

मुझे विकल्प कारोबार क्यों करना चाहिए ? – Why Should I Trade Options ?

विकल्प कारोबार करें – Trade Options

1. स्टॉक की भारी मात्रा रखे/कारोबार किए बिना बाजार का एक हिस्सा बनने के लिए।

2. प्रीमियम के रूप में छोटा भुगतान करके पोर्टफोलियो(Portfolio) की सुरक्षा सुनिश्चित करना।

फ्यूचर और विकल्प में कारोबार के लाभ। – Benefits of Trading in Futures and Options

1. उस व्यक्ति को जोखिम हस्तांतरण(Risk Transfer) करने में सक्षम है जो उन्हें स्वीकार करने को तैयार है।

2. जोखिम पूंजी(Finance) की न्यूनतम राशि के साथ लाभ बनाने के लिए प्रोत्साहन।

3. कम लेनदेन लागत।

4. लिक्विडिटी प्रदान करता है, अंतर्निहित बाजार में मूल्य खोज सक्षम बनाता है।

5. डेरीवेटिव बाजार प्रमुख आर्थिक संकेतक(Indicators) हैं।

शेयर बाजार कैसे काम करता है – How Does The Stock Market Work

विकल्प और इसके प्रकार क्या हैं? – What are the options and its types?

विकल्प एक विकल्प राइटर और खरीददार के बीच अनुबंध होते हैं। जो खरीददार को किसी दिए गए मूल्य पर संपत्ति, अन्य डेरिवेटिव(Derivative) इत्यादि जैसे अंतर्निहित खरीदने/बेचने का अधिकार देता है।

यहां, खरीददार विकल्प राइटप यानी विकल्प के विक्रेता को विकल्प प्रीमियम का भुगतान करता है। यदि खरीददार विकल्प अनुबंध के माध्यम से दिए गए अधिकार का प्रयोग करने का फैसला करता है,तो विकल्प राइटर बाध्य होगा ।

Initial Public Offering ( IPO ) – आईपीओ क्या है।

विकल्प दो प्रकार के हैं – There are Two Types of Options

कॉल(Call) :

कॉल विकल्प खरीददार को भविष्य में किसी विशिष्ट दिनांक पर अंतर्निहित की निर्दिष्ट मात्रा को खरीदने का अधिकार देता है लेकिन दायित्व नहीं देता है।

पुट(Put) :

यह कॉल के विपरीत है। पुट विकल्प खरीददार को अधिकार देता है लेकिन भविष्य में किसी विशिष्ट तिथि पर अंतर्निहित की निर्दिष्ट मात्रा को खरीदने का दायित्व नहीं देता है।

Leave a Comment